Content Updated On : 2022-09-27

Passion is momentary; love is enduring.

30 minutes

Most wars are not fought over shortages of resources such as food and water, but rather over conquest, revenge, and ideology.

30 minutes

I have always been interested in the paranormal and afterlife, everything from ghosts to angels. I think that everyone has that curiosity of the great unknown.

30 minutes

Do your job; be the best at whatever your job description is.

30 minutes

I think there's a difference between making a feel-good movie like 'Think Like a Man' and a feel-good show like 'Common Law.' It's not too heavy, it's not too serious. You just walk away with a smile on your face. I think that makes people somewhat more endearing to you.

30 minutes

Kubrick's vision seemed to be that humans are doomed, whereas Clarke's is that humans are moving on to a better stage of evolution.

30 minutes

Judge of your natural character by what you do in your dreams.

30 minutes

It is an old custom amongst Jewish children, to become war-like on the 'L'ag Beomer.' They arm themselves from head to foot with wooden swords, pop-guns and bows and arrows. They take food with them, and go off to wage war.

30 minutes

I was told to challenge every spiritual teacher, every world leader to utter the one sentence that no religion, no political party, and no nation on the face of the earth will dare utter: 'Ours is not a better way, ours is merely another way.

30 minutes

My dad is a comedian, entertainer, you know. He always likes to make people laugh. With me, it just depends on what mood I'm in. You get what you get.

30 minutes

Wars can be prevented just as surely as they can be provoked, and we who fail to prevent them, must share the guilt for the dead.

30 minutes

Sometimes even to live is an act of courage.

30 minutes

The ever quickening advances of science made possible by the success of the Human Genome Project will also soon let us see the essences of mental disease. Only after we understand them at the genetic level can we rationally seek out appropriate therapies for such illnesses as schizophrenia and bipolar disease.

30 minutes

We were raised in an Italian-American household, although we didn't speak Italian in the house. We were very proud of being Italian, and had Italian music, ate Italian food.

30 minutes

एक रेस्टोरेंट में अचानक ही एक कॉकरोच उड़ते हुए आया और एक महिला की कलाई पर बैठ गया।

महिला भयभीत हो गयी और उछल-उछल कर चिल्लाने लगी…कॉकरोच…कॉकरोच…

उसे इस तरह घबराया देख उसके साथ आये बाकी लोग भी पैनिक हो गए …इस आपाधापी में महिला ने एक बार तेजी से हाथ झटका और कॉकरोच उसकी कलाई से छटक कर उसके साथ ही आई एक दूसरी महिला के ऊपर जा गिरा। अब इस महिला के चिल्लाने की बारी थी…वो भी पहली महिला की तरह ही घबरा गयी और जोर-जोर से चिल्लाने लगी!

दूर खड़ा वेटर ये सब देख रहा था, वह महिला की मदद के लिए उसके करीब पहुंचा कि तभी कॉकरोच उड़ कर उसी के कंधे पर जा बैठा।

वेटर चुपचाप खड़ा रहा। मानो उसे इससे कोई फर्क ही ना पड़ा, वह ध्यान से कॉकरोच की गतिविधियाँ देखने लगा और एक सही मौका देख कर उसने पास रखा नैपकिन पेपर उठाया और कॉकरोच को पकड़ कर बाहर फेंक दिया।

मैं वहां बैठ कर कॉफ़ी पी रहा था और ये सब देखकर मेरे मन में एक सवाल आया….क्या उन महिलाओं के साथ जो कुछ भी हुआ उसके लिए वो कॉकरोच जिम्मेदार था?

यदि हाँ, तो भला वो वेटर क्यों नहीं घबराया?

बल्कि उसने तो बिना परेशान हुए पूरी सिचुएशन को पेर्फेक्ट्ली हैंडल किया।

दरअसल, वो कॉकरोच नहीं था, बल्कि वो उन औरतों की अक्षमता थी जो कॉकरोच द्वारा पैदा की गयी स्थिति को संभाल नहीं पायीं।

मैंने रियलाइज़ किया है कि ये मेरे पिता, मेरे बॉस या मेरी वाइफ का चिल्लाना नहीं है जो मुझे डिस्टर्ब करता है, बल्कि उनके चिल्लाने से पैदा हुई डिस्टर्बेंस को हैंडल ना कर पाने की मेरी काबिलियत है जो मुझे डिस्टर्ब करती है।

ये रोड पे लगा ट्रैफिक जाम नहीं है जो मुझे परेशान करता है बल्कि जाम लगने से पैदा हुई परेशानी से डील ना कर पाने की मेरी अक्षमता है जो मुझे परेशान करती है।

यानि problems से कहीं अधिक, मेरा उन problems पर reaction है जो मुझे वास्तव में परेशान करता है।

मैं इन सब से सीखता हूँ कि मुझे लाइफ में react नहीं respond करना चाहिए।

महिलाओं ने कॉकरोच की मौजूदगी पर react किया था जबकि वेटर ने respond किया था… रिएक्शन हमेशा instinctive होता है …बिना सोचे-समझे किया जाता है जबकि response सोच समझ कर की जाने वाली चीज है।

जीवन को समझने का एक सुन्दर तरीका-

जो लोग सुखी हैं वे इसलिए सुखी नहीं हैं क्योंकि उनके जीवन में सबकुछ सही है…वो इसलिए सुखी हैं क्योंकि उनके जीवन में जो कुछ भी होता है उसके प्रति उनका attitude सही होता है।

महान साइकेट्रिस्ट Viktor Frankl का भी कहना था-

“Stimulus और response के बीच में एक space होता है। उसी space में हमारे पास अपना response चुनने की शक्ति होती है। और हमारे रिस्पोंस में ही हमारी growth और हमारी स्वतंत्रता निहित है।”

दरअसल ये स्टोरी पिछले कुछ सालों से इन्टरनेट पर चल रही है, हालांकि इसे Google CEO Sundar Pichai की स्पीच का हिस्सा बताया जाता है पर इस बात के कोई पुख्ता प्रमाण नहीं हैं। खैर, ये matter नही करता कि इसे किसने, कब, कहाँ सुनाया…. matter इस कहानी से मिलने वाली सीख करती है।

आप इस बारे में क्या सोचते हैं? क्या आप इस बात से agree करते हैं कि हमें life में हमेशा respond करना चाहिए….react नहीं?

30 minutes

I'm enjoying myself this year and for once I'm not chasing my fitness.

30 minutes

I was probably about 22 years old when I recommitted myself to get off the fence and go all in and get serious about my faith. That's really when I experienced God's love and His forgiveness and His true grace.

30 minutes

My diet is always terrible, unfortunately. I don't know moderation.

30 minutes

Discipline is the soul of an army. It makes small numbers formidable; procures success to the weak, and esteem to all.

30 minutes

Arranging a bowl of flowers in the morning can give a sense of quiet in a crowded day - like writing a poem or saying a prayer.

30 minutes

Support Peepal Farm

Note : Put this video here to spread the idea of peepal farm to more and more people. If you want to help peepal farm just buy their product or adopt any animal.